क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध | Essay on Cryptocurrency in Hindi

हेलो दोस्तों! आप सभी का स्वागत है हमारे वेबसाइट में, आज के आर्टिकल में हम आपके लिए क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध लेकर आए हैं। आज हम क्रिप्टोकरेंसी और उनसे संबंधित मुद्दे पर निबंध लेखन के माध्यम से चर्चा करेंगे।

आप सभी को पता ही होगा कि वर्तमान समय में विश्व में लगभग 1300 से अधिक क्रिप्टोकरेंसी प्रचलन में है। 6 अप्रैल 2018 को आरबीआई ने एक सर्कुलर जारी करके ट्रेड में क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया था।

तथा इनके अलावा बैंकों एवं अन्य किसी भी तरह का लेन-देन वर्चुअल करेंसी में ना करने का आदेश दिया था ।

क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध  Essay on Cryptocurrency in Hindi
क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध Essay on Cryptocurrency in Hindi

क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध 1

प्रस्तावना:-

क्रिप्टोकरेंसी अर्थात एक विशेष प्रकार का डिजिटल मुद्रा, जिसमें डेटाबेस में किए गए लेनदेन से संबंधित सभी सूचनाओं को सुरक्षित रखा जाता है, इसमें विश्वास पात्र के लिए केंद्रीय बैंक, प्राधिकरण आने का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है जिसके कारण क्रिप्टोकरेंसी को लेकर लोगों के मन में हमेशा डर बना होता है।

क्रिप्टोकरेंसी में उपयोगकर्ता द्वारा किए गए लेनदेन के जानकारियों को ब्लॉकचेन तकनीक के द्वारा सत्यापित किया जाता है, बिटकॉइन, क्रैडानो , एथेरियम, रिपल, लाइटकाॅइन, डॉगकाॅइन आदि लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है।

क्रिप्टोकरेंसी शब्द की उत्पत्ति:-

क्रिप्टोकरेंसी शब्द की उत्पत्ति क्रिप्टो तथा करेंसी नामक दो लैटिन शब्दों के मिलने से होता है, क्रिप्टो शब्द क्रिप्टोग्राफी से बना है जिसका अर्थ ‘छिपा हुआ’होता है, तथा इसी प्रकार करेंसी शब्द करेंसिया से बना है जिसका अर्थ रुपया या पैसा होता है।

क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की डिजिटल मुद्रा है जिसे कोई भी व्यक्ति अपने हाथों से नहीं छू सकता है वह छिपा हुआ रहता है अर्थात डिजिटल होता है। हमारे समक्ष सबसे पहले क्रिप्टोकरेंसी 2008 में बिटकॉइन के रूप में आई थी।

क्रिप्टोकरेंसी का महत्व:-

क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन प्रणाली पर आधारित होता है, जिसके कारण इसमें धन के लेनदेन आदि से संबंधित जो भ्रष्टाचार हो रहे हैं उनको कम किया जा सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी की प्रक्रिया पूर्ण रूप से इंटरनेट पर आधारित होती है, तथा क्रिप्टोकरेंसी का संचालन भी इंटरनेट के द्वारा किया जाता है, इंटरनेट में इसका संचालन होने के कारण यह बहुत ही कम समय में पूरा हो जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी में लगभग $100 ट्रिलियन के वैश्विक अर्थव्यवस्था का 3% का हिस्सा क्रेडिट कार्ड, पेमेंट गेटवे और बैंक आदि में चला जाता है। क्रिप्टोकरेंसी के क्षेत्र में ब्लॉकचेन का इस्तेमाल होता है जिसके कारण इसमें सैकड़ों अरब डॉलर की बचत की जा सकती है।

क्रिप्टोकरेंसी के दुष्परिणाम :-

क्रिप्टोकरेंसी की गोपनीयता आतंकवादी या अन्य गैरकानूनी गतिविधियों को बढ़ावा दे सकती हैं। यह किसी भी देश की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है क्योंकि सरकार की इन मौद्रिक नीतियों पर कोई भी प्रभाव नहीं होती है।

क्रिप्टोकरेंसी को अत्यधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, क्योंकि इसमें लाखों कंप्यूटरों का उपयोग किया जाता है। क्रिप्टोकरेंसी को किसी भी केंद्रीय बैंक या देश के द्वारा मान्यता नहीं दिया गया है, जिसके कारण इसमें भय बना रहता है।

क्रिप्टोकरेंसी के लाभ :-

क्रिप्टोकरेंसी के द्वारा लेनदेन करने के लिए किसी भी संस्था या अन्य व्यक्ति की आवश्यकता नहीं होती है और इसमें बहुत कम खर्च में खरीदी और बिक्री की जा सकती हैं।

क्रिप्टोकरेंसी का सबसे बड़ा लाभ यह है इसमें पैसा गोपनीय होता है, तथा हम इसमें अपनी जानकारियों को भी गोपनीय रख सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी में जुड़ने या इसका इस्तेमाल करने के लिए हमें किसी भी प्रकार की पहचान पत्र की आवश्यकता नहीं होती है , तथा इसका इस्तेमाल हम बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के विश्व के किसी भी कोने में कर सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश प्रक्रिया :-

  • क्रिप्टोकरेंसी में निवेश प्रक्रिया के लिए सर्वप्रथम किसी फर्म में ब्रोकरेज खाता खोलना होता है, जो क्रिप्टोकरेंसी में निवेश के लिए अनुमति देता हो।
  • इसके बाद आपको अपने बैंक खाते से धन/पैसे को ब्रोकरेज खाते में जमा करना होता है।
  • अब ब्रोकरेज खाते के पैसे का इस्तेमाल करके आप क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकते हैं।
  • क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के बाद आप किसी भी दिन इसको लाभ या हानि में बेच सकते हैं।
  • क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने के लिए, ब्लॉकफाइ, बिटकॉइन इरा, मिथुन राशि, रॉबिन हुड, ईटोरा आदि वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी के ऐप :-

क्रिप्टोकरेंसी में पैसा यूज़ करना या पैसा लगाना उतना आसान नहीं होता है, जीतना बैंक का ट्रांजैक्शन ऑनलाइन माध्यम से किया जाता है, परंतु क्रिप्टोकरेंसी में आप सभी पैसा बड़ी आसानी से इन्वेस्ट कर सकते हैं क्योंकि इसके लिए अनेक ऐप उपलब्ध है। जैसे wazirX , Unocoin,CoinDCX, CoinSwitch kuber आदि।

उपसंहार:-

क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग से व्यापार तीव्र एवं कम खर्चीला हो सकता है, लेकिन इसमें व्याप्त कुछ समस्याएं जैसे – गोपनीयता, मूल्य अस्थिरता आदि को ध्यान में रखते हुए इस पर ज्यादा विश्वास करना ठीक नहीं होगा।

क्योंकि यह सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती है अर्थात क्रिप्टो करेंसी के निजी मुद्रा को बिना किसी नियंत्रण के इतने विशाल जनसंख्या के बीच व्यापार की अनुमति देना सरकार के लिए चुनौतीपूर्ण है।

सम्बंधित निबंध : –

क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध 2

प्रस्तावना:-

क्रिप्टोकरेंसी को सबसे पहले कानूनी तौर पर मान्यता मध्य अमेरिका के देश एल- साल्वाडोर द्वारा दिया गया है। भारतीयों के द्वारा बनाई गई क्रिप्टोकरेंसी का नाम पॉलीगाॅन है। क्रिप्टोकरेंसी शब्द को एंक्रिप्शन तकनीक से लिया गया है, जिसका उपयोग नेटवर्क को सुरक्षित करने के लिए किया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल या आभासी मुद्रा है जिसे क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित किया जाता है। आज हजारों विभिन्न प्रकार के क्रिप्टोकरेंसी उपलब्ध है, सबसे लोकप्रिय और पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन है जैसे 2008 में बनाया गया था।

क्रिप्टो करेंसी जिस तकनीक पर कार्य करता है उसे ब्लॉकचेन कहा जाता है, क्रिप्टो करेंसी डिजिटल है जिसके कारण परिषद द्वारा किसी भी तरह की छेड़खानी या अपने मनमानी से उलटफेर नहीं किया जा सकता है, क्रिप्टोकरेंसी किसी भी देश के लिए विनिमय दरों, लेनदेन शुल्क या अन्य शुल्कों से बाध्य नहीं है जिसके कारण इसे बिना किसी समस्या के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपयोग किया जा सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है:-

क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की मुद्रा है जो डिजिटल और विकेंद्रीकृत होती हैं। क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल चीजों को खरीदने और बेचने के लिए किया जा सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी शब्द का शाब्दिक अर्थ छुपा हुआ पैसा या डिजिटल पैसा होता है, यह एक प्रकार की डिजिटल करेंसी है जिसे व्यक्ति अपने हाथों से नहीं छू सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी की विशेषता:-

क्रिप्टोकरेंसी किसी भी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा जारी नहीं की जाती हैं, जो उन्हें सैद्धांतिक रूप से सरकारी हस्तक्षेप या हेरफेर से प्रतिरक्षा बनाती है।

एक डिजिटल संपत्ति है जिसे एक्सचेंज के माध्यम से कार्य करने के लिए डिजाइन किया गया है, जो लेनदेन को सुरक्षित रखता है तथा अतिरिक्त इकाइयों के निर्माण को भी नियंत्रित करने और संपत्ति के हस्तांतरण को भी सत्यापित करने के लिए उपयोग में लाया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी एक नेटवर्क पर आधारित डिजिटल संपत्ति का एक रूप है, जिसे बड़ी संख्या में कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से संचालित किया जाता है। यह विकेंद्रीकृत संरचना है जो सरकार और केंद्रीय अधिकारियों के नियंत्रण से बाहर रहने की अनुमति देती है।

उपसंहार:-

क्रिप्टोकरेंसी में लेनदेन करने के लिए बैंक या किसी व्यक्ति की भूमिका की आवश्यकता नहीं होती है, क्रिप्टोकरेंसी को एक्सचेंज के माध्यम के रूप में कार्य करने के लिए डिजाइन किया गया है, बिटकॉइन पहली प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी है जो वर्तमान में सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली, मूल्यवान और लोकप्रिय बनी हुई है।

क्रिप्टोकरेंसी प्रेषक और प्राप्तकर्ता दोनों के लिए धन और समय बचाने में मदद करता है, क्योंकि यह पूरी तरह से इंटरनेट पर संचालित होती है। क्रिप्टोकरेंसी एक सिस्टम पर चलती है जिसमें बहुत कम लेनदेन शुल्क शामिल होता है, जो इसे अन्य ऑनलाइन लेनदेन की तुलना में सस्ता विकल्प बताता है।

क्रिप्टोकरेंसी तेजी से लोकप्रिय हो रही है और इसे कई कंपनियों द्वारा स्वीकारा जा रहा है, क्रिप्टोकरेंसी निवेश और लेनदेन को सुरक्षित बनाता है।

निष्कर्ष

आशा करते हैं आपको क्रिप्टोकरेंसी पर निबंध पसंद आया होगा, हमारा यह निबंध सभी प्रतियोगी और शैक्षणिक परीक्षाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण निबंध है, जो सभी के लिए उपयोगी साबित हो सकता है।

सम्बंधित निबंध : –

Leave a Comment