पीढ़ी अंतराल पर निबंध | Essay on Generation Gap in Hindi

नमस्कार दोस्तों! आप सभी को स्वागत है हमारे वेबसाइट में, हम इस लेख में पीढ़ी अंतराल पर निबंध के बारे में बताएंगे, यह निबंध सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी है।

पीढ़ी अंतराल प्रत्येक युग में देखा जा सकता है, जब हम बच्चे बड़े हो जाते हैं तो युवा अवस्था में अपने सारे फैसले खुद लेने लगते हैं और हम युवा का सोच हमारे माता-पिता के सोच में अंतर पैदा कर देता है। हम इस लेख में कहीं अंतराल से जुड़ी सभी जानकारियों के बारे में जानने की कोशिश करेंगे। पीढ़ी अंतराल हमें हमारे रिश्तेदारों और दोस्तों से दूर भी कर देती हैं।

तो चलिए हम पर भी आधार पर निबंध को शुरू करते हैं और इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानते हैं –

पीढ़ी अंतराल पर निबंध 1

प्रस्तावना

आप सभी ने अक्सर देखा होगा युवा पीढ़ी और वृद्ध पीढ़ी में बहुत अंतर होता है, और इन अंतरों को ही पीढ़ी अंतराल कहा जाता है। हम सभी जैसे-जैसे बढ़ रहे हैं और हमारे पीछे आने वाली पीढ़ियों की सोच हमसे अलग होती जा रही है इन्हीं अंतरों को पीढ़ी अंतराल कहा जाता है।

हम सभी को अक्सर लगता है कि हमारे माता-पिता का सोच पुराने ख्याल का है, हमें लगता है कि हमारे माता पिता हमारी भावनाओं को नहीं समझ रहे हैं जिसके कारण हमारे बीच मतभेद हो जाते हैं।

जैसे नई पीढ़ी के बच्चे गाना सुनना, डांस करना, और विभिन्न प्रकार के चाइनीस फूड को खाना पसंद करते हैं, तथा पहले के लोग शाकाहारी भोजन को पसंद करते हैं पहले के लोगों को ज्यादा मसाला और तेल वाली सब्जी भी पसंद नहीं आती हैं, यह सभी पीढ़ी अंतराल के उदाहरण है।

पहले के लोगों को भक्ति गीत और छत्तीसगढ़ी आदि पसंद है परंतु आज के युवाओं को भक्ति गीत सुनने में कोई ज्यादा रुचि नहीं है। जब हमारे माता-पिता हमें धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के बारे में बताते हैं तो हम उन्हें अहमियत नहीं देते हैं।

पीढ़ी अंतराल की उत्पत्ति

पीढ़ी अंतराल की उत्पत्ति सबसे पहले 1960 में हुई थी, यह ऐसा समय था जब पहली बार देखा और महसूस किया गया कि एक बच्चा अपने मां के सभी नियमों के खिलाफ जाने लगा था, आज मां के किसी की बातों को नहीं मानता था उनके सभी बातों पर सवाल उठाता था।

कुछ समाजवादी व्यक्तियों के द्वारा इस विषय पर रिसर्च किया गया तब पीढ़ी के बीच अंतराल को समझा गया। वर्तमान में आप सभी ने अपने माता पिता और दादा दादी के बीच के अंतराल को देखा होगा तथा महसूस किया होगा, के पहले के लोग और आज के लोगों में किस प्रकार से विभिन्न कहां पाए जाती हैं।

पीढ़ी अंतराल की अवधारणा

कई बच्चों के असली मां बाप होते हैं जिसके कारण उनके बीच में बहुत तकरार सा आ जाता है और बच्चे और मां बाप के बीच में मतभेद होने लगते हैं जिसके कारण दुनिया में प्रमुख रूप से पीढ़ी अंतराल की भावना उत्पन्न हो जाती है।

आजकल के युवा बहुत तेजी से फैशन और नए नए अविष्कार की ओर बढ़ रहे हैं जिससे दुनिया का बदलाव भी तेजी से हो रहा है। पीढ़ी अंतराल के कारण दुनिया में काफी बदलाव आ गया है और दुनिया के सभी युवाओं की सोच भी तेजी से बदल रही हैं।

आजकल के बच्चे बदलते जनरेशन के कारण अपने परिवार और मां-बाप के साथ रहना भी पसंद नहीं करते हैं, आज के युवा संयुक्त परिवार में रहना बिल्कुल भी पसंद नहीं करते हैं।

रिश्तो पर पीढ़ी अंतराल का प्रभाव

दो परिवार और रिश्तेदारों के बीच विभिनता होना रिश्तो पर बहुत प्रभाव डालता है। यदि आपके विचार आपके रिश्तेदारों से नहीं मिल रहे हैं तो आपका आपके रिश्तेदार से अनबन हो जाता है जिसके कारण हमारे रिश्ते भी टूट सकते हैं।

हमारे माता पिता को हम बच्चों से उम्मीदें होती हैं कि हम बड़े होकर उनके कार्य में हाथ बढ़ाएंगे और उनके कमियों को पूरा करेंगे, परंतु हम बच्चों का विचार जब अलग हो जाता है तो हमारे बीच अक्सर लड़ाइयां होने लगती हैं और ऐसे मां-बाप तथा बच्चों में बातें भी नहीं होती है।

पीढ़ी अंतराल खत्म करने का उपाय

हम सभी बच्चों का हमारे माता-पिता के साथ अटूट रिश्ता होता है, तथा सभी माता पिता का कर्तव्य होता है कि वे अपने बच्चों की जरूरतों को पूरा करें और उन्हें किसी भी चीज के लिए प्यार से समझाएं। प्यार से समझाने से बच्चे खुश होते हैं और उन्हें मां-बाप से ज्यादा शिकायतें भी नहीं होती है।

मां बाप को बच्चों के द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देना चाहिए क्योंकि बच्चे अपने जिज्ञासा को शांत करना चाहते हैं, परिवार में पीढ़ी अंतराल को खत्म करने के लिए झगड़े नहीं करनी चाहिए और गुस्से में लिए गए निर्णय को फिर से बार बार सोच कर उसके बारे में समझना चाहिए।

उपसंहार

जब दो पीढ़ी के लोगों का आपस में मेल नहीं हो पाता अर्थात जब दो पीढ़ी के लोगों का विचार नहीं मिल पाता तो इससे पीढ़ियों अंतराल आ जाती है। हमें दो पीढ़ियों के बीच अंतराल करने से बचना चाहिए तथा किसी भी प्रकार का लड़ाई झगड़ा नहीं करने चाहिए हमें अपने आपस के बाद को प्यार से सुलझाना चाहिए।

एक तरह से दो पीढ़ी के बीच अंतराल आना हम सभी के लिए फायदेमंद भी होता है क्योंकि पीढ़ी के बीच अंतराल आने से हमारे दुनिया का विकास तेजी से होता है। हमें पीढ़ियों के अंतराल को दूर करने के लिए एक दूसरे को समझने की आवश्यकता होती है।

अन्य निबंध लेख :-

पीढ़ी अंतराल पर निबंध 2

प्रस्तावना

आज के वर्तमान युग में दुनिया काफी तेजी से आगे बढ़ रही है, और विज्ञान और उन्नति के क्षेत्र में तेजी से विकास कर रही हैं। देश के विकास के साथ-साथ लोगों के रहन-सहन और खान-पान में भी बदलाव आ रही हैं। लोगों के जीने के तरीके बदल रही हैं तथा जरूरतें भी बढ़ने लगी है।

पीढ़ी अंतराल मुख्यत दो पीढ़ियों के बीच का अंतराल होता है इन अंतरों के वजह से उनके विचारों में भिन्नता आ जाती है, पीढ़ी अंतराल का सबसे प्रमुख कारण एक पीढ़ी का दूसरी पीढ़ी के विचारों से सहमत ना होना होता है।

हमारे दुनिया का जनरेशन तेजी से बदलता जा रहा है, हमारी समाज में रहने वाली पहले की महिलाएं काम करने के लिए घर से बाहर नहीं जाया करते थे महिलाएं केवल घर के कामों तक सीमित रहती थी परंतु आज के बदलते जनरेशन के साथ महिलाएं सभी क्षेत्र में कार्य कर रही हैं।

आज की युवा पीढ़ी अपनी मर्जी के अनुसार जीना चाहती हैं, युवाओं को किसी भी प्रकार का रोग टोक पसंद नहीं होता, आज के युवा लोग अपने परिवार के लोगों के द्वारा समझाई गई बातों को गलत समझते हैं और अपने जीवन में आजादी से अकेले रहना पसंद करते हैं।

पीढ़ी अंतराल का कारण

पीढ़ी अंतराल का प्रमुख कारण मानव के अलग-अलग विचार होते हैं क्योंकि पहले के मनुष्यों सभी चीजों में आज के युवा के समान विचार विमर्श नहीं होते, पहले के लोगों को आज के युवा की समझ पसंद नहीं आती और युवाओं को उनकी पुरानी सोच पसंद नहीं आते जिसके कारण दो पीढ़ियों के बीच में अंतराल आ जाता है।

पीढ़ी को अंतराल काम करने के लिए दोनों पीढ़ियों को एक दूसरे को समझने की आवश्यकता होती है, पीढ़ियों के बीच अंतराल अपनी मनमानी को करने से उत्पन्न होती है, युवाओं के द्वारा पुराने पीढ़ी के बताए गए सही चीजों की सलाह को भी गलत तरीके से देखा जाता है।

उपसंहार

पहले के लोग संयुक्त परिवारों में सब एक साथ मिलजुल कर रहते थे परंतु आज के लोग संयुक्त परिवार में रहना बिल्कुल भी पसंद नहीं करते क्योंकि आज के युवा और पहले के लोगों के सोच बिल्कुल भी आपस में नहीं मिलती है जिसके कारण आपस में मतभेद हो जाता है।

पुराने पीढ़ी के लोग अपनी मातृभाषा और हिंदी का इस्तेमाल करते हैं और वही आज के लोग अंग्रेजी भाषा का उपयोग ज्यादा करते हैं बातचीत में, आजकल के नई पीढ़ी के लड़के लड़कियां नए फैशन के कपड़े पहनना पसंद करते हैं और पुराने पीढ़ी के लोग सादगी भरे जीवन में जीना पसंद करते हैं।

अन्य निबंध लेख :-

निष्कर्ष

हमने इस लेख में पीढ़ी अंतराल पर निबंध के बारे में जानकारियां दी हैं जो आप सभी विद्यार्थियों के लिए ज्ञानवर्धक है, तथा पीढ़ियों के बीच आने वाले अंतराल के कारण भी आप इस निबंध के माध्यम से समझ सकते हैं।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

पहले के लोग संयुक्त परिवार में रहना क्यों पसंद करते थे ?

पहले के लोग आपस में मिल जुल कर रहना पसंद करते थे जिसके कारण संयुक्त परिवार में रहते थे, संयुक्त परिवार में रहने से पहले लोगों को कई प्रकार के लाभ मिलते थे। पहले के लोगों का विचार आपस में मिलता था जिसके कारण आपस में संयुक्त परिवार के साथ रहने में कोई परेशानी नहीं होती थी।

पीढ़ी अंतराल का प्रमुख कारण क्या होता है ?

पीढ़ी अंतराल का प्रमुख कारण एक पीढ़ी का विचार दूसरी पीढ़ी के साथ ना मिलना होता है, आज के युवाओं का विचार पहले पीढ़ी के लोगों से बिल्कुल भी नहीं मिलता है जिसके कारण दो परिवारों और रिश्तेदारों के बीच अंतराल आ जाती हैं।

पीढ़ी अंतराल की उत्पत्ति कब हुई है?

पीढ़ी अंतराल की उत्पत्ति 1960 में हुई थी, यह एक ऐसा समय था जब एक बच्चे और मां के बीच विचारों में अंतराल देखा गया था।

Leave a Comment