भारत में आतंकवाद पर निबंध | Essay on Terrorism in India in Hindi

नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है हमारे वेबसाइट में आज हम आपके लिए भारत में आतंकवाद पर निबंध लेकर आए हैं जो आप सभी के परीक्षाओं के लिए उपयोगी और महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

आप सभी हमारे निबंध को पढ़कर आसानी से भारत में आंतकवाद पर निबंध लिख सकेंगे और हम इस निबंध के अलावा भी आपके समक्ष विभिन्न प्रकार के निबंध शेयर करते हैं जिसके माध्यम से आप आसानी से विभिन्न विषयों पर निबंध लिख सकते हैं। हमारा निबंध लेख बहुत सरल तथा आसान शब्दों में लिखा जाता है जिससे सभी को समझने में आसानी हो।

यदि आपको भी भारत में आतंकवाद पर निबंध की तलाश है तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं आपको यहां भारतीय अर्थव्यवस्था पर निबंध मिलेगी जिसके मदद से आप निबंध लिख सकेंगे तथा इससे जुड़ी जानकारियों को भी प्राप्त कर सकेंगे।

भारत में आतंकवाद पर निबंध 1

प्रस्तावना

आतंकवादियों का मुख्य उद्देश्य देश के लोगों को डराना धमकाना होता है आतंकवादी लोगों के बीच आतंक पैदा करते हैं तथा हमेशा लोगों में खौफ, डर देखना पसंद करते हैं। आतंकवादी लोगों के बीच डर और खौफ देखने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए लोगों के बीच समय-समय पर विभिन्न प्रकार के आतंकवादी गतिविधियों को करते रहते हैं जिससे कभी-कभी मासूम लोगों की जान भी चली जाती है।

भारत देश में लगभग 100 से भी ज्यादा आतंकवादी संस्था चलाई जा रही हैं। भारत देश तथा इसके अलावा अन्य देशों में भी आतंकवादी गतिविधियों का भय उत्पन्न किया जा रहा है और आतंकवादी संस्थाएं लोगों के बीच डर का माहौल उत्पन्न करने में सफल भी हो रही है। आतंकवादी समूह के द्वारा अनेक प्रकार के आतंकवादी गतिविधियां की जा रही हैं जिससे देश में तनाव तथा चिंता का माहौल बना रहता है।

भारत देश में सक्रिय आतंकवादी संगठन

अब आपको भारत देश में संचालित हो रही कुछ आतंकवादी समूहों के बारे में बताते हैं जिसके मदद से आप जान सकेंगे कि भारत देश में किन-किन आतंकवादी समूहों का संचालन किया जा रहा है-

भारत देश में जैश ए मोहम्मद आतंकवादी समूह चलाया जा रहा है जो जम्मू कश्मीर में संचालित पाकिस्तान आतंकवादियों का एक समूह है जिसका उद्देश्य जम्मू कश्मीर पर कब्जा करना है और इस समूह के द्वारा जम्मू कश्मीर पर कब्जा करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए कई आतंकवादी हमले को अंजाम दिया गया है, तथा लश्कर-ए-तैयबा यह भी एक इस्लामवाद की आतंकवादी समूह है जो भारत देश के जम्मू कश्मीर के क्षेत्रों में काम कर रहा है।

इस आतंकवादी समूह को पाकिस्तान के द्वारा घोषित किया गया है और यह भारत देश में कई हमलों के लिए जिम्मेदार है इनके अलावा वामपंथी आतंकवादी आदि कई नक्सली समूह है जो लोगों को अपने आतंकवाद समूह में शामिल करके कई जगहों पर कब्जा करने तथा लोगों के बीच खौफ पैदा करने के लिए कई प्रकार के घातक हमलों को अंजाम देते रहते हैं।

भारत में आतंकवाद का उद्देश्य

आतंकवादियों का कई उद्देश्य होता है जिससे आतंकवादी अपना आतंक मचाते रहते हैं इनमें से हम कुछ देशों के बारे में बताते हैं जो आपको आतंकवाद के बारे में जानकारी प्राप्त कराने में सहायक होगा –

आतंकवादी समूहों का प्रमुख उद्देश्य लोगों के बीच आतंक पैदा करना होता है और आतंकवादी लोगों को हमेशा डर तथा खौफ में देखना पसंद करते हैं। आतंकवादी लोगों के बीच डर तथा खौफ के लक्ष्य को पूरा करने के लिए समय-समय पर विभिन्न प्रकार के छोटे बड़े आतंकवादी गतिविधियां करते रहते हैं।

कभी-कभी आतंकवादियों का उद्देश्य किसी देश पर कब्जा करना या आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देकर सरकार को अपने अनुसार कार्य करवाना आदि भी होता है। आतंकवादी जब किसी चीज को अपने इच्छा के अनुसार कराना चाहते हैं तो इसके लिए भी लोगों के बीच आतंक का माहौल बनाते हैं और कई बार आपसी दुश्मनी के लिए भी आतंकवादी हमलों को अंजाम दिया जाता है।

भारत में आतंकवाद का कारण

गरीबी

भारत देश के अधिकतर लोग कृषि कार्य पर निर्भर है और यहां के लोग गरीब है जिसके कारण लोग गरीबी को दूर करने के लिए आतंकवाद में शामिल हो जाते हैं। आतंकवाद में शामिल हो जाने से गरीबों को आजीवन चलाने में सहायता मिलता है।

सामाजिक आर्थिक असमानता

भारत देश सामाजिक आर्थिक असमानता के लिए भी जाना जाता है जहां अमीर व्यक्ति और अमीर तथा गरीब व्यक्ति गरीब होते जा रहे है जिसके कारण लोगों में असमानता की भावना उत्पन्न होती जा रही है। गरीब वर्ग के लोग असमानता के भावना के कारण ऊंचे वर्ग के लोगों को नष्ट करने के भावना से आतंकवादी संगठनों में शामिल हो जाते हैं और आतंकवादियों के साथ उच्चवर्णीय क्षेत्रों में आतंकवादी हमला करने लगते हैं।

बेरोजगारी

भारत देश के लोगों के पास अच्छी डिग्रियां होने के बाद भी लोगों को रोजगार का अवसर नहीं मिल पाता है जिसके कारण लोग निराशा होकर गलत कार्य की ओर अग्रसर होने लगते हैं। लोगों को रोजगार प्राप्त ना होने के कारण भी लोग अपराधिक गतिविधियों अर्थात आतंकवादी संगठनों में शामिल होने लगते हैं और देश को नुकसान पहुंचाने का लक्ष्य बनाने लगते हैं।

भारत देश में आतंकवाद का प्रभाव

भारत देश में यदि आतंकवाद पर प्रकाश डाला जाए तो भारत में आतंकवाद के विभिन्न प्रभाव नजर आएंगे जो निम्न है-

लोगों के बीच घबराहट

भारत देश में आतंकवाद ने आम जनता के बीच भय तथा खौफ का माहौल पैदा कर दिया है। आतंकवादी समूह के द्वारा देश में विस्फोट, फायरिंग आदि गतिविधियां की जाती है जिसके कारण लोग घर से निकलने के लिए भी डरते रहते हैं और कई बार आतंकवादी गतिविधियों के कारण मासूम लोगों की जान भी चली जाती है तथा कई लोगों का जीवन विकलांग हो जाता है।

आतंकवादी गतिविधियों के कारण लोगों को कई प्रकार के समस्याओं को झेलना पड़ता है और इनके हमले के कारण लोगों में भय उत्पन्न हो जाता है जिससे लोग हमेशा तनाव तथा चिंता में रहते हैं और लोग घर से बाहर न निकल पाने के कारण अपना जीवन चलाने में भी असमर्थ हो जाते हैं।

पर्यटन उद्योग पर प्रभाव

देश के लोग आतंकवादी हमले के कारण ग्रस्त स्थानों पर जाने से डरते हैं भारत देश में कई पर्यटन स्थानों पर आतंकवादी हमला किया जा रहा है जिससे लोग उसके आसपास जाने से डरते हैं और इससे पर्यटन उद्योग पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है पर्यटन उद्योगों की जो कमाई हो रही थी वह ठप हो गई है। आतंकवादी गतिविधियों के कारण भारत देश के पर्यटन उद्योग के शांति व्यवस्था पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है।

अर्थव्यवस्था पर संकट

भारत देश की अर्थव्यवस्था पर आतंकवाद का प्रभाव भी देखने को मिलता है कई भारतीय शहरों में आतंकवाद का प्रभाव पड़ा है जिससे संपत्ति और व्यवसाय में भी बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है और वहीं कई ऐसे मामले हैं जहां की अर्थव्यवस्था में वृद्धि हुई है।

इस प्रकार से कई देशों में आतंकवादी हमले के कारण हानियों को भरने में निवेश की जाती है तथा पर्यटन उद्योगों में गिरावट और भारत में निवेश करने के लिए विदेशी निवेशकों की कमी तथा आतंकवाद के परिणाम स्वरूप अंतरराष्ट्रीय व्यापार की दरों में वृद्धि आदि में इसके नकारात्मक प्रभाव है।

उपसंहार

भारत देश में आतंकवाद के कारण कई समस्याएं उस पर हो रही हैं आतंकवाद की गतिविधियों का प्रत्येक क्षेत्र में नकारात्मक प्रभाव पड़ा है इससे कई लोग विकलांग हो गए हैं तथा कई लोगों की जान चली गई है और इन गतिविधियों का लक्ष्य लोगों के बीच में उत्पन्न करना होता है परंतु यदि लोगों के द्वारा इनका विरोध किया जाता है तो उन्हें अन्य लोगों के बीच भय का माहौल बनाए रखने के लिए मार दिया जाता है।

अन्य निबंध लेख :-

भारत में आतंकवाद पर निबंध 2

प्रस्तावना

भारत देश में कई जगहों पर आतंकवादी हमला समय समय पर किया जाता है जिसके कारण भारत के प्रतिभाशाली युवा देश के निम्न गुणवत्ता और आतंकवादी हमलों के अनिश्चितताओं के कारण देश में नहीं रहना चाहते हैं और वे संयुक्त राष्ट्र अमेरिका तथा यूनाइटेड स्टेट जैसे विकसित देशों में जाने लगते हैं।

आतंकवाद सिर्फ भारत देश तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह पूरे विश्व का समस्या बन चुका है जो विभिन्न देश तथा राष्ट्र में व्याप्त है। भारत देश में आतंकवादी समूहों के गठन के कारण अलग अलग हो सकते हैं परंतु इनका कारण मुख्य रूप से सामाजिक आर्थिक असमानता, भेदभाव तथा रोजगार की उपलब्धि ना हो पाना आदि प्रमुख कारण है।

हमारे देश में कई विभिन्न समस्याएं उत्पन्न है जिसके कारण हमारे देश तथा अन्य देश के अंदर विभिन्न आतंकवादी संगठनों का गठन हुआ है और इन आतंकवादी संगठनों के द्वारा आम जनता के बीच भय का माहौल बनाए रखने के लिए समय-समय पर देश के अंदर आतंकवादी हमले किए जाते हैं जो आतंकवाद को जन्म देता है।

भारत देश में आतंकवाद के प्रभाव

राजनीतिक प्रभाव

आतंकवाद का उद्देश्य असुरक्षा की भावना एवं आतंक का विचार उत्पन्न करना आदि होता है तथा यह लोकतंत्र एवं शक्तियों के पृथक्करण से संबंधित होता है जो वर्तमान संरचनाओं के असंतोष और दुरुपयोग को जन्म देता है। कई नेताओं के द्वारा केवल उच्च वर्ग के लोगों का कार्य किया जाता है तथा निम्न वर्ग को नजरअंदाज कर दिया जाता है जिसके कारण निम्न वर्ग के लोगों में नेता और उच्च वर्ग के लोगों के प्रति बदले की भावना उत्पन्न हो जाती है।

सांस्कृतिक प्रभाव

यदि आतंकवाद का प्रभाव स्थाई होता है तो वह सांस्कृतिक हो जाता है और व्यक्ति अपने आदत तथा व्यवहार को परिवर्तित कर देता है लोग आतंकवादी हमले की स्थिति में निष्क्रिय होते हैं एवं वह मानसिक पीड़ित होते हैं जिसके कारण लोगों के मानसिक संतुलन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। आतंकवाद लोगों के वास्तविकता के बारे में भी समझ को परिवर्तित कर देता है।

आर्थिक प्रभाव

आतंकवाद का प्रभाव मशीन, परिवहन प्रणाली और अन्य संसाधनों को नष्ट कर देता है तथा छोटे पैमाने पर विभिन्न सार्वजनिक स्थान जैसे बाजार या किसी धार्मिक स्थान पर आतंकवादी समूहों के द्वारा विस्फोट आदि किया जाता है, बाजारों के अनिश्चितता में वृद्धि के कारण भी आतंकवादी हमले उत्पन्न होते हैं।

वर्तमान में उद्योग बीमा एवं पर्यटन विशेष रुप से आतंकवाद के प्रभाव के प्रति संवेदनशील है जिससे आतंकवाद गतिविधियों के कारण बहुत नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

भारत देश में आतंकवाद का समाधान करने के उपाय

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारे भारत देश ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर विस्तृत समय का प्रस्ताव रखा है जिस पर वर्तमान में वार्ता जारी है और इसके अंगीकरण पर सभी आतंकवादी गतिविधियों के अपराधीकरण के लिए यह विधिक आधार प्रदान करेगा।

राष्ट्रीय स्तर पर

आतंकवाद से निपटने के लिए भारत देश में विभिन्न प्रकार के अधिनियम मौजूद है इसलिए भारत देश में गैर कानूनी गतिविधियों पर रोक लगाना चाहिए और गैर कानूनी गतिविधियों पर रोक लगाने का अधिनियम 1967 तथा संशोधन अधिनियम 2004 द्वारा इन हमलों पर रोक लगाया जा सकता है।

भारतीय क्षेत्रों में विस्फोटक तथा फायरिंग क्षेत्रों में पीड़ितों की सहायता के लिए केंद्रीय योजना तैयार किया जाना चाहिए और नक्सली पीड़ित परिवार को भी सहायता प्रदान करना चाहिए और पीड़ित के योजनाओं में चिकित्सा महाविद्यालय आदि को भी शामिल करना चाहिए।

आतंकवाद की समस्या को दूर करने के लिए भारत देश के सरकार को सर्वप्रथम देश के लोगों को रोजगार प्राप्त कराना चाहिए जिससे लोगों के मन में निराशा उत्पन्न ना हो और लोग गलत कार्य की ओर अग्रसर ना हो क्योंकि अधिकतर देखा जाता है लोगों को रोजगार ना मिल पाने के कारण लोग अपराधिक गतिविधियों की ओर अग्रसर होने लगते हैं।

उपसंहार

वर्तमान समय में आतंकवाद के कारण देश में समय-समय पर विस्फोटक स्थिति तथा इसके अलावा और भी विभिन्न प्रकार की गतिविधियां होती रहती है, तथा दोनों के बीच तनाव और चिंता का माहौल बना रहता है लोग हमेशा डरते रहते हैं। आतंकवाद हमारे देश के अलावा अन्य देश के लिए भी समस्या बन चुका है और इस समस्या को हल करना बहुत जरूरी है इसलिए सरकार को इसके समाधान के लिए प्रयास करना चाहिए।

यदि आतंकवाद की समस्या को दूर न किया गया तो हमारे देश के शांतिपूर्ण व्यवस्था नकारात्मक रूप से प्रभावित होती है और इसके अलावा हमारे देश में भ्रष्टाचार आदि व्याप्त होता है जो भारत देश में आतंकवाद का प्रमुख कारण है।

अन्य निबंध लेख :-

निष्कर्ष

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह भारत में आतंकवाद पर निबंध पसंद आएगा तथा आपके लिए ज्ञानवर्धक भी साबित होगा और यह निबंध सभी विद्यार्थियों के परीक्षाओं के लिए भी उपयोगी साबित होगा।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

आतंकवादी समूह का लक्ष्य क्या होता है?

आतंकवादी समूह का लक्ष्य लोगों के बीच भय का माहौल उत्पन्न करना होता है जिसके लिए आतंकवादी समूह के द्वारा समय-समय पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियों को किया जाता है।

आतंकवाद का अर्थ बताइए?

किसी भी देश या समाज पर यह गुट द्वारा जोर जबरदस्ती करके या धमकाने के उद्देश्य से गैर कानूनी तरीके से हिंसा का इस्तेमाल करना आतंकवाद कहलाता है और आतंकवाद एक सामूहिक अपराध है जो किसी भी धर्म जाति के विरुद्ध होता है।

आतंकवाद की परिभाषा?

“जब हिंसा या किसी शक्ति का प्रयोग करके लोगों के बीच भय, डर या चिंता तनाव आदि का माहौल उत्पन्न किया जाता है तो इस प्रकार की गतिविधियां आतंकवाद कहलाते हैं और आतंकवाद के अंतर्गत विस्फोटक, लोगों की जान लेना आदि घटनाएं भी शामिल होती है।”

“आतंकवाद एक ऐसी हिंसक कार्यवाही है जो व्यक्तियों के एक समूह द्वारा की जाती है जिससे मानव का जीवन खतरे में होता है जो मौलिक स्वतंत्रताओं के लिए घातक होता है तथा यह एक राज्य तक सीमित नहीं होता है।”

आतंकवाद के मुख्य कारण बताइए?

आतंकवाद के प्रमुख कारण गरीबी, भूखमरी, अशिक्षा और धार्मिक उन्माद आदि है तथा इनके साथ साथ और भी विभिन्न प्रकार की गतिविधियां जो आतंकवाद को जन्म देती है।

Leave a Comment