गणेश चतुर्थी पर भाषण | Ganesh Chaturthi speech in Hindi

गणेश चतुर्थी भारत देश की एक लोकप्रिय त्यौहार है, यह हिंदुओं के द्वारा बहुत ही खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है, हिंदू पंचांग के अनुसार यह त्यौहार भाद्रपद माह की चतुर्थी को मनाया जाता है।

Ganesh Chaturthi speech in Hindi

गणेश चतुर्थी पर भाषण 1:-

सुप्रभात मेरे प्रिय गणेश भक्तो एवं मेरे भाइयो एवं बहनो आप सभी को गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाइयाँ!

गणेश चतुर्थी का त्यौहार शिव और पार्वती के पुत्र श्री गणेश भगवान के जन्म उत्सव के रूप में मनाया जाता है यह त्यौहार 11 दिनों तक चलता है जिसे हिंदुओं के द्वारा उत्साह से मनाया जाता है। इन 11 दिनों में भक्तजन सुबह शाम श्री गणेश जी की पूजा अर्चना करते हैं।

बड़े उत्साह से श्री गणेश जी का आरती और भजन कीर्तन किया जाता है, विभिन्न प्रकार के पकवान बनाकर गणेश जी को भोग लगाए जाते हैं, जिनमें मोदक विशेष रूप से गणेश जी के लिए बनवाये जाते हैं।

गणेश चतुर्थी पर लोग जगह-जगह श्री गणेश जी का मूर्ति स्थापित कर पूजा करते हैं, श्री गणेश जी को विघ्नहर्ता कहा जाता है अर्थात गणेश जी बाधाओं को दूर करने वाले होते हैं। गणेश जी की प्रतिमा को पंडाल में स्थापित किया जाता है तथा पंडाल को फूलों से सजाया जाता है। चतुर्थी के दिन लोग गणेश जी की प्रतिमा रखकर पूजा अर्चना करते हैं तथा अनंत चतुर्थी के दिन पूरे धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ भगवान गणेश जी की मूर्ति का विसर्जन करते हैं।

भगवान श्री गणेश के जन्मदिन के उत्सव को गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है, यह त्यौहार प्रत्येक वर्ष बड़े ही उत्साह से मनाया जाता है। यह भारत की प्रसिद्ध तथा लोकप्रिय त्योहार मानी जाती है,

लोग गणेश जी की पूजा बुद्धि तथा समृद्धि की प्राप्ति के लिए करते हैं, गणेश जी हिंदू धर्म में सबसे प्रसिद्ध देवता है जो सभी के द्वारा पूजे जाते हैं, यह त्यौहार महाराष्ट्र में खासतौर पर बड़े धूमधाम से मनाया जाता है, लोगों के द्वारा पूरी भक्ति और श्रद्धा से ज्ञान और समृद्धि के भगवान का पूजा किया जाता है।

भगवान गणेश जी को अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है, सुंदर मुख वाले, लंबोदर, विनायक, गजानन, विघ्न विनाशक अर्थात विघ्न को खत्म करने वाले, आदि नामों से जाना जाता है।

गणेश चतुर्थी के दिन सभी भक्त अपने घरों में साफ सफाई कर भगवान गणेश जी की मूर्ति स्थापित करके आरती और मंत्रों के उच्चारण के साथ उनकी पूजा करते हैं, लोग भगवान गणेश से सुख शांति और समृद्धि की कामना करते हैं।

इस त्यौहार को प्रत्येक वर्ष अगस्त या सितंबर के महीने में खुशी और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है, इस दिन सभी कार्यालय और शिक्षा संस्थानों को बंद रखा जाता है और श्री गणेश जी की पूजा अर्चना की जाती है।

भगवान गणेश सभी को प्रिय हैं खासतौर पर बच्चों को, बच्चों में यह नाम बहुत प्रसिद्ध होता है। भगवान गणेश ज्ञान और संपत्ति के भगवान हैं जो कि शिव और माता पार्वती के पुत्र हैं।

गणेश चतुर्थी आने से पहले ही बाजारों और दुकानों में इसकी रौनक दिखने लगती है, श्री गणेश की सुंदर सुंदर मूर्तियांबहुत ही भव्य तथा अलग-अलग रूप में तैयार की जाती है, जिसे लोगों के द्वारा घर ले जाकर स्थापित किया जाता है। भगवान गणेश का सिर भगवान शिव ने क्रोध में आकर काट दिया था तब पार्वती जी के विलोप करने पर शिवजी ने एक हाथी का सिर गणेश के धड़ से जोड़ दिया इस तरह गणेश भगवान को दोबारा जीवन मिला तब से ही उस दिन को गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है।

यह त्यौहार खुशियां लाने वाला त्यौहार होता है, जिसमें सभी भक्तजन बड़ी श्रद्धा और खुशी के साथ इस त्योहार को मनाते हैं तथा गणपति विसर्जन के समय भजन कीर्तन करते हुए भगवान गणेश जी को नदियों में विसर्जन किया जाता है।

गणेश जी के ऊपर दो शब्द मै अन्य उपस्थित लोगो को मौका देते हुए अब मैं अपने इस भाषण को यही विराम देते हुए अपना स्थान ग्रहण करती हूँ धन्यवाद! जय श्री जय श्री गणेशाय नमः

इस भाषण को भी पढ़े : –

गणेश चतुर्थी पर भाषण 2:-

आदरणीय गणेश भक्तो एवं मेरे भाइयो एवं बहनो आप सभी को गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाइयाँ !

यह हिंदुओं का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार है जिसे हर वर्ष बड़े धूमधाम से मनाया जाता है, गणेश चतुर्थी का त्यौहार गणेश जी के जन्म उत्सव के उपलक्ष में मनाया जाता है, यह देश के विभिन्न राज्यों में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्यौहार है, इसे विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है।

लोग भगवान गणेश की पूजा बुद्धि तथा समृद्धि की प्राप्ति के लिए करते हैं, गणेश चतुर्थी आनंद फैलाती हैं और सभी लोगों को एकजुट करती है, इस अवसर पर सुबह शाम गणेश जी की पूजा की जाती है तथा मोदक एवं विभिन्न प्रकार के पकवान का भोग लगाया जाता है।

यह त्यौहार भगवान श्री गणेश जी की जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है, गणेश जी सभी बच्चों के पसंदीदा होते हैं इसलिए उन्हें बच्चों के द्वारा गणेशा कहा जाता है, यह त्यौहार हिंदी महीने भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है, गणेश चतुर्थी का त्योहार 11 दिनों तक चलने वाला सबसे लंबा त्यौहार होता है।

गणेश चतुर्थी के दिन लोग अपने घरों में, मंदिरों में भगवान श्री गणेश जी की मूर्ति स्थापित करते हैं और श्रद्धा तथा भक्ति के साथ उनका पूजा करते हैं, श्री गणेश जी को खासतौर पर मोदक और लड्डू का भोग चढ़ाया जाता है।

गणेश जी बुद्धि के एक बहुत ऊंचे स्तर के प्रतीक है, गणेश चतुर्थी हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है, इनके जन्म दिवस के उपलक्ष पर प्रतिवर्ष गणेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाता है।

हमारे देश में विभिन्न प्रकार के त्योहार मनाए जाते हैं हमारे जीवन में इन सभी त्योहारों का महत्वपूर्ण स्थान होता है, इन्हीं त्योहारों में से एक गणेश चतुर्थी का त्योहार होता है, यह उत्सव भारत में बहुत ही भक्ति भाव से मनाया जाता है।

गणेश उत्सव भ्राद पद महीने में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेश जी की मूर्ति की स्थापित की जाती है, उस दिन से लेकर अनंत चतुर्थी तक मनाया जाता है। गणेश जी बुद्धि और समृद्धि के देवता है, इन्हें विघ्नहर्ता के नाम से भी बुलाया जाता है अर्थात भक्तों की बाधाओं को मिटाने वाला, गणेश उत्सव की तैयारी कई दिन पहले से शुरू हो जाती है।

भगवान श्री गणेश शिव और पार्वती के प्रथम पुत्र हैं यह हिंदू सभ्यता के अनुसार सबसे प्रथम भगवान के नाम से पूजे जाते हैं, यह त्योहार विभिन्न राज्यों में अलग अलग तरीके से मनाया जाता है, महाराष्ट्र में इस त्यौहार को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है महाराष्ट्र में यह त्यौहार ही नहीं, बल्कि बहुत बड़ा उत्सव है।

यह त्योहार हिंदुओं का लोकप्रिय त्यौहार है, गणेश जी को बुद्धि दाता, सिद्धीदाता और विघ्नहर्ता बोला जाता है। गणेश जी का प्रिय भोग मोदक का लड्डू है इस पूजा में फूल, फल, नारियल, सिंदूर आदि पूजन सामग्री होते हैं। प्रभु गणेश जी का प्रिय वाहन मूषक है, यह पूजा सुख, शांति और समृद्धि के लिए सभी लोगों के द्वारा अपने अपने घरों में तथा विभिन्न जगहों पर मनाया जाता है।

गणेश जी की पूजा 10 दिनों तक की जाती है तथा 11 दिन विसर्जन किया जाता है, आप सभी को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं। जय श्री गणेशाय नमः!

सम्बंदित भाषण : –

Leave a Comment