भगवान् श्रीकृष्ण पर 10 लाइन निबंध | 10 Lines On Lord Krishna In Hindi

भगवान श्री कृष्ण धर्म के हिंदू धर्म के देवी देवताओं में से एक है या भगवान विष्णु के आठवें अवतार माने जाते हैं भगवान श्री कृष्ण बुद्धि विवेक और साहस की असीम प्रतिमा माना जाता है।

इनका जन्म मथुरा के कारावास में हुआ था इनकी माता का नाम देवकी तथा पिता का नाम वासुदेव था। तो आज हम भगवान श्री कृष्ण के बारे में और भी बहुत सी बातें जानेंगे विस्तार पूर्वक बने रहिए अब तक हमारे साथ हो जाने पूरी जानकारी।

10 Lines On Lord Krishna in hindi

भगवान् श्रीकृष्ण पर 10 लाइन निबंध

  1. 1.श्री कृष्ण भगवान विष्णु के आठवे अवतार है।
  2. 2.भगवान् श्री कृष्ण को श्याम, केशव, वासुदेव,
  3. कन्हैया आदि अनेक नामो से पूजा जाता है।
  4. 3.श्री कृष्ण जी का जन्म मथुरा में हुआ था।
  5. 4.भगवान् श्री कृष्ण ने माता देवकी और पिता वासुदेव के घर जन्म लिया था।
  6. 5.श्री कृष्ण जी का लालन पालन माता यशोदा और पिता नन्द बाबा के घर हुआ था।
  7. 6.कृष्ण जी का जन्म भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को हुआ था।
  8. 7.श्री कृष्ण जन्म को हम सभी जन्माष्टमी पर्व के नाम से जानते है।
  9. 8.भगवान श्री कृष्णा ने पापी कंस का वध करके उसके अत्याचारों से मुक्ति दिलाई थी।
  10. 9.महाभारत में अर्जुन को गीता उपदेश भगवान् श्री कृष्ण जी ने ही दिया था।
  11. 10.भगवत गीता आज के युग में भी समाज का मार्गदर्शन करती है।

10 Lines On Lord Krishna In Hindi

  • 1.भगवान श्री कृष्ण बहुत ही चंचल स्वभाव के थे और उन्हें कहीं अलग नामों से पुकारा जाता था।
  • 2.भगवान श्री कृष्ण के कुल 108 नाम थे, जिनमें कान्हा, माधव, बाली, गोपाल और कृष्णमुरारी जैसे सुंदर नाम शामिल है।
  • 3.भगवान श्री कृष्ण के एक बड़े भाई थे, जिनका नाम बलराम था और वह शेषनाग के अवतार थे।
  • 4.भगवान श्री कृष्ण को मोर पंख बहुत पसंद है और उनके मुकुट में हमेशा एक मोर पंख रहता था।
  • 5.भगवान श्री कृष्ण ने अपने मामा कंस का वध करके, लोगो को उनके अत्याचारों से मुक्ति दिलाई थी।
  • 6.महाभारत में भगवान श्री कृष्ण ने पांडवो का साथ देकर उन्हें जीत दिलाई थी।
  • 7.भगवान श्री कृष्ण द्वारका नगरी के राजा थे, जो आज हिन्दू धर्म के सर्वाधिक पवित्र तीर्थ स्थान में से एक है।
  • 8.श्री कृष्ण को हिंदू धर्म के लोगों द्वारा शक्तिशाली, कृपालु और नटखट ईश्वर के रूप में जाना जाता है।
  • 9.श्री कृष्ण, दयालु, कृपालु व कष्ट निवारक हैं वे अपने भक्तों पर शीघ्र प्रसन्न होकर उनकी सहायता करते हैं।
  • 10.होली जैसे प्रसिद्ध त्यौहार पर भी हम भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं।

भगवान् श्रीकृष्ण पर 10 लाइन निबंध

  1. 1.इनकी मुख्य रूप से 8 पत्नियां थी परंतु एक पौराणिक कथा के अनुसार ये 16108 पत्नियों के स्वामी थे।
  2. 2.श्री कृष्ण ने पाप को समाप्त करने व पुण्य की स्थापना करने के लिए पृथ्वी पर जन्म लिया था।
  3. 3.परंतु भगवान कृष्ण आज भी किसी ना किसी रूप में इस पृथ्वी पर विद्यमान रहते हैं।
  4. 4.भगवान ने पांडवों की विभिन्न संकटों से रक्षा की थी।
  5. 5.भगवान श्री कृष्णा का जनम दिन मनाया जाता है जन्मआष्ट्मी को ।
  6. 6.जन्मआष्ट्मी के दिन भगवान श्री कृष्णा और राधे माँ का पूजा किया जाता है ।
  7. 7.श्री कृष्णा की बचपन वृन्दाबन और गोकुल मैं बिता हुआ है ।
  8. 8.श्री कृष्ण जी के परम मित्र का नाम सुदामा था।
  9. 9. श्री कृष्ण सुदामा की मित्रता की कहानियां बहुत प्रचलित हैं।
  10. 10.राधा-कृष्ण वृंदावन में रास करते थे। कहते है आज भी वृंदावन के निधी वन में उनकी उपस्थिति महसूस की जा सकती है।

Few Lines On Lord Krishna In Hindi

  1. 1.भगवान श्री कृष्ण हिंदू धर्म के देवता है, भगवान श्री कृष्ण को भारत में हिंदू धर्म के लोग मानते तथा उनकी पूजा करते हैं, वह हिंदुओं के प्रमुख आराध्य देवताओं में से एक है।
  2. 2.भगवान श्री कृष्ण को बांसुरी बजाना पसंद है और वह इतनी मधुर बांसुरी बजाते थे कि उनकी बांसुरी को सुन सभी बांसुरी के धुन में मुग्ध हो जाते थे।
  3. 3.भगवान श्री कृष्ण को  माखन बहुत पसंद था और वे अपने बचपन में अपने मित्रों के साथ मिलकर पूरे गांव से माखन चुराते थे।
  4. 4.भगवान श्री कृष्ण बहुत सुंदर थे और उनका रंग मेघश्यामल था और साथ ही में वह हमेशा पीले रंग के वस्त्र पहनते थे जिस वजह से उन्हें पितांबर भी कहा जाता है।
  5. 5.लोग मध्य रात्रि में जन्माष्टमी मनाते हैं। क्योंकि भगवान कृष्ण अंधेरे में पैदा हुए थे। चूँकि श्री कृष्ण को माखन खाने का बहुत शौक था, इसलिए लोग इस मौके पर दही-हांडी जैसे खेल का आयोजन करते हैं।
  6. 6.बचपन में राधा के साथ कृष्ण का जुड़ाव अत्यंत दिव्य और आलौकिक था, जो हमारी संस्कृति में बहुत सम्मानित है। राधारानी देवी लक्ष्मी की अवतार थीं।
  7. 7.अंतर्राष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ अर्थात इस्कॉन  आरंभ 1966 में न्यूयार्क में आचार्य भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद ने किया था।
  8. 8.देश-विदेश के जन-जन तक कृष्णा को पहुँचाने का श्रेय  प्रभूपाद को ही जाता है।
  9. 9.इसे “हरे कृष्णा आन्दोलन” की भी उपमा दी जाती है। यह एक धार्मिक संगठन है, जिसका उद्देश्य धार्मिक संचेतना और आध्यात्म को जन-जन तक पहुँचाना है।
  10. 10. इसकी पूरे विश्व में 850 से ज्यादा शाखाएं है। इसके देश भर में अनेक मंदिर और विद्यालय स्थित हैं। इसका मुख्यालय पश्चिम बंगाल (भारत) के मायापुर में है।

इन्हें भी पढ़े : –

Leave a Comment