सन्देश लेखन (प्रारूप और उदाहरण) | Sandesh Lekhan

नमस्कार दोस्तों इस लेख में सन्देश लेखन के बारे में जानकारी दी गयी है. सन्देश लेखन हिन्दी साहित्य का एक महत्वपूर्ण विषय है जो कक्षा 8, 9, 10 के विद्यार्थियों को अक्सर परीक्षा में पूछा जाता है. अगर हम सामान्य भाषा में बात करे तो वर्तमान समय में सन्देश लिखना (message writing) और भेजना बहुत लोकप्रिय है.

अक्सर हमारा कोई मित्र या परिवार का सदस्य हमसे दूर होता है तो सन्देश के आदान प्रदान से उनसे जुड़े रहते है. अपने विचार लिखित या मौखिक सन्देश के माध्यम से उन तक पहुँचाते है. 

सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सप्प, फेसबुक, इंस्टाग्राम के इस दौर में सन्देश लिखना और भेजना आम बात है. इस लेख सन्देश लेखन क्या है? सन्देश लेखन के प्रकार, सन्देश लेखन का प्रारूप, सन्देश लेखन के कुछ उदाहरण आदि के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे.

सन्देश लेखन क्या है? | सन्देश लेखन (प्रारूप और उदाहरण)

मित्रों सन्देश लेखन के इस विषय पर चर्चा करने से पहले हम सन्देश लेखन क्या है? इसको समझने का प्रयास करते है. सन्देश शब्द की उत्पत्ति संस्कृति भाषा से हुई है जिसका अर्थ होता है किसी विचार, भावना, उद्देश्य या महत्वपूर्ण बात को लिखित या मौखिक रूप में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुँचाना.

सन्देश लेखन का प्रयोग व्यक्तिगत तौर पर किसी तक अपनी बात या विचार पहुंचाने के लिए किया जा सकता है या फिर औपचारिक तौर पर भी अपने विचार या बात पहुंचाने के लिए किया जा सकता है. सन्देश एक साथ एक से अधिक व्यक्तियों को सुचना या जानकारी देने के उद्देश्य से भी लिखा जाता है.

अगर किसी व्यक्ति से हम कुछ महत्वपूर्ण बात कहना चाहते है और वो हमसे दूर है तो हम सन्देश लेखन के  माध्यम से उस व्यक्ति विशेष तक अपनी आसानी से पहुंचा सकते है. सन्देश भूतकाल, भविष्यकाल या वर्तमान काल किसी में भी लिखे जा सकते है.

इन्हें भी जरुर पढ़े : –

सन्देश लेखन के प्रकार     

सन्देश कई प्रकार के होते है और उनको विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है. चलिए विभिन्न प्रकार के सन्देश लेखन की चर्चा करने की कोशिश करते है – 

  1. बधाई या शुभकामना सन्देश

 जब किसी व्यक्ति की शादी, जन्मदिन, सालगिराह, पुत्र या पुत्री प्राप्ति आदि किसी भी प्रकार की ख़ुशी का                    अवसर होने पर उसे बधाई या शुभकामना देने के उद्देश्य से लिखा गया सन्देश बधाई या शुभकामना सन्देश में आते है.    

  1. दुःखद या शोक सन्देश 

जब किसी के साथ कोई दुर्घटना या मृत्यु हो जाने पर दूसरे लोगों को सूचित करने के उद्देश्य से या शौक या दुःख  व्यक्त करने के लिए शौक सन्देश लिखा जाता है.

  1. त्यौहार या पर्व सन्देश 

जैसा की हम जानते है भारत देश त्यौहारों के देश के नाम से विश्व प्रसिद्ध है अक्सर लोग किसी त्यौहार या पर्व पर अपने दोस्तों या रिश्तेदारों को शुभकामनाएँ देने के लिए सन्देश लिख कर भेजते है जिन्हे त्यौहार या पर्व सन्देश कहा जाता है.

  1. औपचारिक सन्देश 

औपचारिक सन्देश उन्हें कहा जाता है जब किसी पद विशेष या सम्मानित व्यक्ति को आधिकारिक तौर पर सुचना या जानकारी देने के उद्देश्य से सन्देश लिखा गया हो.

  1. अनौपचारिक सन्देश 

अनौपचारिक सन्देश उन्हें कहते है जब व्यक्तिगत या निजी तौर पर किसी व्यक्ति या व्यक्तियों को कोई सुचना, जानकारी या किसी अन्य उद्देश्य के लिए सन्देश लिखे गए हो. बधाई या शुभकामना सन्देश, शौक सन्देश या त्यौहार या पर्व सन्देश आदि अनौपचारिक सन्देश के ही उदाहरण है.

सन्देश लेखन के प्रारूप 

औपचारिक और अनौपचारिक सन्देश लेखन के अंदर निम्न बिंदु होना आवश्यक है – 

  • सन्देश का शीर्षक 
  • दिन और समय 
  • अभिवादन 
  • सन्देश का मुख्य भाग 
  • भेजने वाले का नाम 
  1. औपचारिक सन्देश लेखन 

सन्देश

दिनांक : …….
समय : ……
संबोधन ………

विषय (जिस विषय हेतु सन्देश दे रहे हैं)……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….
(सन्देश का मुख्य भाग)…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………
सन्देश लिखने वाले का नाम  

  1. अनौपचारिक सन्देश लेखन 

सन्देश
दिनांक : …….
समय : ……

विषय (जिस विषय हेतु सन्देश दे रहे हैं )……………………………………………………………………………………….
………………………………………………………………………………………………………………………………………
……………………………….(सन्देश का मुख्य भाग)………………………………………………………………………..
…………………………………………………………………………………
सन्देश लिखने वाले का नाम 

सन्देश लिखते वक्त ध्यान रखने योग्य बातें 

सन्देश लिखते वक्त निम्नलिखित बातें है जिनका लिखते वक्त ध्यान रखना चाहिए – 

  • सन्देश को हमेशा एक बंद बॉक्स के अंदर लिखना चाहिए 
  • सन्देश को हमेशा संक्षिप्त में और प्रभावशाली तरीके से लिखना चाहिए 
  • सन्देश लेखन में शब्दों की सीमा को हमेशा 50 शब्दों से कम रखने का प्रयास करे 
  • सन्देश लिखने के शुरुआत सन्देश का प्रकार लिखे 
  • शुरुआत में सन्देश लिखने की दिनांक और समय भी लिखें और अंत में सन्देश लिखने वाले का नाम अवश्य लिखे 
  • अपनी भावना या विचारों को स्पष्ट रूप से और बलपूर्वक व्यक्त करने के लिए फोटो, शायरी, दोहे, कविता या श्लोक का इस्तेमाल भी कर सकते है 
  • सन्देश लिखते लिखने में जटिल भाषा का प्रयोग न करते हुए सरल और स्पष्ट शब्दों का प्रयोग करे 

सन्देश लेखन का महत्त्व 

  • सन्देश लेखन का प्रचलन आज से ही नहीं बल्कि कई वर्षों पहले से ही किसी बात को दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाने में  प्रयोग किया जाता आ रहा है.
  • मौखिक शब्दों की तुलना में लिखित शब्दों को अधिक महत्त्व दिया जाता है इसलिए सन्देश लेखन किसी विचार, बात, घटना या शुभकामना देने के उद्देश्य से अधिक महत्वपूर्ण है.
  • व्यक्तियों के बीच सन्देश लेख का आदान प्रदान सम्बन्ध को मजबूत बनाता है.
  • वर्तमान में चल रही घटनाओं के प्रति जागरूक रहने के लिए भी सन्देश की महत्वपूर्ण भूमिका है.
  • किसी भी शुभ कार्य के अवसर पर लोगों को आमंत्रित करने के लिए भी सन्देश लेखन महत्वपूर्ण है.
  • सन्देश लेखन के माध्यम से अपने विचारों और भावनाओं को आसानी से व्यक्त कर सकते है.  

सन्देश लेखन के उदाहरण 

औपचारिक व अनौपचारिक सन्देश लेखन के कुछ उदाहरण निम्न है –

उदहारण 1. अपने छोटे भाई के जन्मदिन के अवसर पर उसे शुभकामना देते हुए सन्देश लिखे 

शुभकामना सन्देश
“तुम जियो हजारों साल,
हर साल में दिन हो पच्चास हजार हजार”


दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न

प्रिय छोटे भाई राजेश आपको जन्मदिन के इस शुभ अवसर ढेरों शुभकामनाएँ. मैं भगवान से आपकी लम्बी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूँ. हमेशा हँसते रहो मुस्कुराते रहो और उन्नति करते रहो.

आपका बड़ा भाई 
राजेन्द्र  

उदहारण 2. दीपावली की शुभकामनाएँ देते हुए अपने दोस्तों के लिए सन्देश लिखे 

शुभकामना सन्देश
“दिये की रोशनी से सब अन्धेरा दुर हो जाये
दुआ है कि जो चाहो वो खुशी मंजूर हो जाए”

दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न


प्रिय मित्रों दीपावली के इस पावन पर्व की आपको और आपके पूरे परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ. आपके जीवन में हमेशा खुशहाली और प्रगति रूपी दीपक जलते रहे. आपके घर में सदैव माता लक्ष्मी और सरस्वती विराजमान रहे और उनकी कृपा आप पर बनी रहे.

आपका मित्र  
राजेन्द्र

उदहारण 3. अपनी बहन को 12वीं कक्षा में प्रथम स्थान से प्राप्त करने पर बधाई सन्देश लिखे 

शुभकामनासन्देश

दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न

प्यारी बहना कविता आपने अपनी मेहनत और लगन से 12वीं कक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर हम सभी को गौरवान्वित महसूस कराया है. इसके लिए आपको बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें. इसी तरह हमेशा मेहनत करते रहो और जीवन में प्रगति करते रहो.

आपका बड़ा भाई 
राजेन्द्र

उदहारण 4. शोक सन्देश का उदहारण 

शोक सन्देश

दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न

अत्यन्त दुःख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि मेरे पूज्य दादा जी श्रीमान पुरुषोत्तम जी का 9 फरवरी 2022 शाम 7 बजे स्वर्गवास हो गया. भगवान मेरे दादाजी को अपने श्री चरणों में जगह दे. उनका पीपलपानी दिनांक 20 फरवरी को रखा गया है अतः आपसे निवेदन है कि शोक सभा में पधारकर मेरे दादाजी की आत्मा की शान्ति के लिए ईश्वर एक प्रार्थना करे.

शोकाकुल
राजेन्द्र

उदहारण 5. अपने दोस्त के साथ एक दुर्घटना होने पर दुःख व्यक्त करते हुए सन्देश लिखे  

सन्देश

दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न

प्रिय मित्र राजकुमार आपके साथ हुई सड़क दुर्घटना की जानकारी सुनकर बहुत दुःख हुआ. मैं भगवान से प्रार्थना करता हूँ कि आप जल्द ही कुशल हो जाए. इस मुश्किल घड़ी में भगवान आपको और आपके परिवार को उभरने के हिम्मत दे.   

शोकाकुल
राजेन्द्र

उदहारण 6. आपके बड़े भाई को पुत्र प्राप्ति होने पर बधाई सन्देश लिखे 

शुभकामना सन्देश

“अँगने में आज आपक चहक उठी मुस्कान बहुत बहुत बधाई जो मिला पेरेंट्स का सम्मान।। 
पिता बनने पर शुभकामनायें”

दिनांक : 10 /02 / 2022
समय : 10:00 पूर्वाह्न

प्यारे बड़े भाई राजेश आपको पुत्र प्राप्ति होने पर बहुत बहुत शुभकामनाएँ. यह नन्हा मेहमान आपको जीवन में और प्रगति करने की प्रेरणा दे. आपका परिवार हमेशा हँसता रहे मुस्कुराता रहे मैं ईश्वर से यहीं कामना करता हूँ.

आपका अनुज 
राजेन्द्र

इन्हें भी जरुर पढ़े : –

निष्कर्ष – इस लेख में हमने सन्देश लेखन के प्रारूप और कुछ उदाहरण पर विस्तार से चर्चा करने का प्रयास किया. उम्मीद है सन्देश लेखन विषय पर यह जानकारी आपको पसंद आई होगी. अगर यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इस लेख को अपने दोस्तों में शेयर जरूर करे.   

Leave a Comment